जादू-टोना की वास्तविकता। tnatra mantra kya hai

तंत्र और जादू-टोना का वास्तविकता क्या है? जादू टोना वास्तविकता में क्या है, क्या वास्तव में जादू टोने होते हैं, यदि होते हैं तो उसका प्रभाव कैसे पड़ता है, और यदि नहीं होते हैं, फिर दुनिया में इसका प्रचलन क्यों है? सवाल अनेकों प्रकार के होते हैं, जबकि यदि व्यक्ति विचार करें तो इसका उत्तर … Continue reading जादू-टोना की वास्तविकता। tnatra mantra kya hai

टूटा हुआ दिल बेचारा क्या करें।Dil Ko Kaun samjhaye/

प्रेमी के द्वारा टूटे हुए दिल को कैसे समझाएं? टूटे हुए दिल के लिए क्या कहें, इस दुनिया में एक दिल ही तो है जो कहते हैं मानता नहीं! दिल को हर समय कुछ न कुछ चाहिए, दोस्तों से तो चाहिए साथ में दुश्मनों से भी चाहिए। आखिर टूटे दिल को कौन समझाए। एक मशहूर … Continue reading टूटा हुआ दिल बेचारा क्या करें।Dil Ko Kaun samjhaye/

जन्म के साथ जाती नहीं आता। Jativad samaj ka Diya hua hai.

कौन सा जाति ऊंचा है और कौन जाति का मापदंड करने वाला है। यदि जन्म के साथ जाती निश्चित होता, तो आज संसार में इतने सारे जाति धर्म संप्रदाय नहीं होते। पिता के के ऊपर पुत्र का नामकरण नहीं हो सकता। समाज ने जाति और धर्म बनाएं। धर्म जाति का निर्माण नहीं करता। कोई भी … Continue reading जन्म के साथ जाती नहीं आता। Jativad samaj ka Diya hua hai.

मौसम विज्ञानिक नेताजी। Janata ka Dard be Mausam Barsaat.

भारत में अक्सर नए नए मुद्दे खड़े किए जाते हैं, एक ज्वलंत मुद्दा है कृषक बिल। जरूरत के अनुसार नेता अपना शब्द सुनाने आ जाते हैं और जनता अपना दर्द कहां सुनाएं।मौसम विज्ञानिक नेताजी। भारत की जनता आखिर अपने आप को कैसे समझाएं? मानने वाले और न मानने वाले वास्तविकता से दोनों परिचित हैं। आजादी … Continue reading मौसम विज्ञानिक नेताजी। Janata ka Dard be Mausam Barsaat.

प्रकृति से खिलवाड़ क्यों? Prakriti se sab ka jivan hai.

प्रकृति के विपरीत कोई कैसे सोच सकता है, प्रकृति की देन मानव है, मानव ने प्रकृति नहीं बनाया। प्रकृति ने हमें जन्म दिया है फिर प्रकृति से खिलवाड़ क्यों? आज के मानव को प्रकृति के विपरीत मौसम चाहिए। विज्ञान इतना तरक्की कर चुका है की कहते हैं हम सब चांद पर पहुंच गए। हजारों साल … Continue reading प्रकृति से खिलवाड़ क्यों? Prakriti se sab ka jivan hai.

भारतीय पुरुषों का कौशल अतुल्य कौशल। Bhartiya purush ka Atul Kaushal

धरती पर अनेक देश अनेक धर्म के व्यक्ति निवास करते हैं।भारत अपनी संस्कृति को लेकर अतुलनीय रहा है। भारतीय पुरुषों का कौशल अपने आप में बहुत ही उत्तम है। भारत उनमें बिल्कुल अलग है,परंतु भारत को भी सब अपने अनुसार से तुलना करते हैं। भारत में ऐसा क्या है जो इसे खास बनाता है। यहां … Continue reading भारतीय पुरुषों का कौशल अतुल्य कौशल। Bhartiya purush ka Atul Kaushal

देवभूमि उत्तराखंड में महत्वपूर्ण तीर्थ ऋषिकेश। Athulya Rishikesh.

भारत तीर्थ दर्शन।सनातन महातीर्थ ऋषिकेश। अतुल्य भारत दर्शन। Incredible India."ऋषिकेश" अर्थात ऋषियों के रहने का एक बड़ा स्थल। ऋषिकेश-उत्तराखंड राज्य में स्थित महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल ।।हिंदुओं का प्रमुख तीर्थ स्थलों में एक,देवभूमि उत्तराखंड के चार धाम का प्रवेश द्वार। कहते हैं समुंद्र मंथन से निकले विष को यही पास के नीलकंठ में भगवान शंकर ने … Continue reading देवभूमि उत्तराखंड में महत्वपूर्ण तीर्थ ऋषिकेश। Athulya Rishikesh.

श्री राम ही पुरुषोत्तम क्यों है। Ramcharitmanas aur Purushottam.

श्री राम ही पुरुषोत्तम क्यों है। Ramcharitmanas aur Purushottam. शास्त्र कहता है, पुराण कहता है, ऋषि महर्षि कह गए, श्रीमद्भागवत गीता कहतीं हैं। परमेश्वर बिना आकार वाला, उसका कोई रूप नहीं, वो सब में हैं और सब उसमें है। हिंदू धर्म में श्री राम को ही पुरुषोत्तम क्यों कहा जाता है? उन्हें स्त्री है ना … Continue reading श्री राम ही पुरुषोत्तम क्यों है। Ramcharitmanas aur Purushottam.

महाभारत से खून में उबाल क्यों आता है? Mahabharat Harivansh Puran.

महाभारत के पात्रों से वीरता और साहस का तुलना कोई नहीं कर सकता। विशाल भारत के इतिहास में सनातन पद्धति में धर्म ग्रंथ का एक बहुत बड़ा समूह है। वेद चार  - ॠग्वेद, सामवेद, यजुर्वेद और अथर्ववेद; तेरह-उपनिषद, अठारह -पुराण तथा प्रमुख धार्मिक ग्रंथ रामायण, महाभारत, गीता, रामचरितमानस। इनके अलावा सनातन धर्म में महामानव रूपी … Continue reading महाभारत से खून में उबाल क्यों आता है? Mahabharat Harivansh Puran.

मानवता में रिश्ता का महत्व । Sansar mein rishta kaise banaa.

रिश्ता क्यों जरूरी है? दुनिया में रिश्ता किसने बनाया ,क्यों बनाया ,किस लिए बनाया ? जिंदगी में रिश्ता क्या महत्व रखता है? मानवता में रिश्ता का क्या महत्व है?मानवता के लिए आपसी रिश्ते की क्यों जरूरत है?व्यक्ति के अंदर एक महत्वपूर्ण तत्व है और वह है भावना। इतिहास कहता है कि इंसान के अंदर यदि … Continue reading मानवता में रिश्ता का महत्व । Sansar mein rishta kaise banaa.

श्रीमद्भागवत गीता वास्तव में क्या है?

ओम श्री परमात्मने नमः श्रीमद्भागवत गीता से सभी परिचित हैं, गीता जी के बारे में कितना भी कहा जाए कम होगा। महानुभाव! श्रीमद्भागवत गीता वास्तव में क्या है? श्रीमद्भागवत गीता के बारे में कितना भी कुछ कहा जाए, कम होगा। राम को पसंद करने वाले राम की भक्ति करते हैं। कृष्ण को पसंद करने वाले … Continue reading श्रीमद्भागवत गीता वास्तव में क्या है?

प्रेमी का प्रेम कैसे मिले? Dil ki baat kaise samjhaye.

हमारे अपनी हम से प्रेम कैसे करें। अपने प्रेमी का प्रेम कैसे पाएं?क्या बलपूर्वक प्रेम को पाना संभव है? नहीं कभी नहीं! प्रेम के अंदर यदि समर्पण ना हो तो वो प्रेम कभी नहीं हो सकता। प्रेम के अंदर यदि आशा अथवा किसी प्रकार का स्वार्थ हो तो वह भी प्रेम नहीं हो सकता। वैसा … Continue reading प्रेमी का प्रेम कैसे मिले? Dil ki baat kaise samjhaye.

महात्मा गांधी का दर्द कौन जाने? Aaj ki rajniti aur Mahatma Gandhi.

जनता के लिए श्री महात्मा गांधी का दर्द। हिंदू धर्म में महात्मा गांधी। सनातन धर्म। आज श्री महात्मा गांधी क्या कहते होंगे। आज महात्मा गांधी भारत की राजनीति के लिए क्या कहते होंगे। क्या यह वही भारत है, जिसका मैंने सपना देखा था। मुझे लोग गाली देते हैं इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। मैंने कभी … Continue reading महात्मा गांधी का दर्द कौन जाने? Aaj ki rajniti aur Mahatma Gandhi.

करोना से त्रस्त जनता अपना दर्द किसे सुनाएं?corona ka dard

कोरोना में दिल बेचैन है। करोना समाज से क्या लेकर जाने वाला है। करोना से त्रस्त जनता अपना दर्द किसे सुनाएं? "कोरोना" क्या लेकर जाएगा इसका चिंतन करने से पहले "करोना" क्या लेकर आया है इसके ऊपर चिंतन आवश्यक है। यह एक महामारी है जो जन जन में फैला हुआ है। सबके अंदर कुछ होने … Continue reading करोना से त्रस्त जनता अपना दर्द किसे सुनाएं?corona ka dard

प्राचीन भारत की दर्दे दास्तां। Prachin bharat ka dard.

प्राचीन भारत का दर्द दास्तां। सनातन संस्कृति का विशेषता। सनातन संस्कृति क्या था।‌‌     हिंदू धर्म में प्राचीन भारत की दर्दे दास्तां। हिंदुस्तान के महामानव ने यह सभी कल्पनाएं हजारों साल पहले कर चुके हैं। सनातन भारत की सबसे बड़ी अपनी खास जो संपत्ति है, वह अपना वेद है। सनातन वेद साहित्य ही है जिसके कारण … Continue reading प्राचीन भारत की दर्दे दास्तां। Prachin bharat ka dard.

संसार में मानव एवं मानव का चाहत। Manav ka Chahat kab pura hoga.

क्या मानव का चाहत कभी पूरा होगा। इच्छा के ऊपर सनातन धर्म और हिंदू धर्म क्या कहता है।‌‌     संसार में क्या मानव का चाहत कभी पूरा होता है? कहते हैं सोच की कोई सीमा नहीं होता, कुछ भी सोच लो। कुछ भी सोचने के लिए कोई रोकने वाला नहीं है, कल्पनाओं की दुनिया, सबकी अपनी … Continue reading संसार में मानव एवं मानव का चाहत। Manav ka Chahat kab pura hoga.

ढोल गवार शुद्र पशु नारी। जातिवाद का भ्रम। Dhol gawar shudra pashu nari.

श्री राम की चर्चा तो राम से ही होना चाहिए "सभी को राम राम" । राम चरित्र मानस एक चौपाई है-ढोल गंवार सूद्र पसु नारी। सकल ताड़ना के अधिकारी॥ ढोल गवार शुद्र पशु नारी यह चौपाई जातिवाद के लिए क्या कहता है। इस चौपाई वास्तविक अर्थ समझने के लिए हमें बहुत दूर दूर जाने की … Continue reading ढोल गवार शुद्र पशु नारी। जातिवाद का भ्रम। Dhol gawar shudra pashu nari.

सनातन संस्कृति में रोग। Hindu dharm ka dard.

सनातन धर्म में रोग कैसा है? हिंदू धर्म अपने सिद्धांत के लिए क्या कहता है। सनातन धर्म में किस प्रकार का रोग है। सनातन की बात तो अनगिनत महापुरुष करते हैं, परंतु वास्तव में सनातन को क्या चाहिए, इसकी बात कोई नहीं करता। सनातन पद्धति लड़ाई की बात नहीं करता, सनातन साहित्य अपने अंदर कुविचारों … Continue reading सनातन संस्कृति में रोग। Hindu dharm ka dard.

भागीरथी गंगा और भारत। Sanatan Dharm mein Shri Ganga ka mahatva.

हिंदू धर्म हरिद्वार की गंगा श्री गंगा जी की महिमा हिंदू धर्म में भागीरथी गंगा जी इतना महत्वपूर्ण क्यों है? श्री गंगा जी की महिमा,मां गंगा! श्री गंगा जी के बारे में जितना भी कहा जाए कम होगा।भारतीय सनातन वेद संस्कृति में उपकार का महत्व बहुत बड़ा है। थोड़ा भी यदि कोई कुछ करें तो … Continue reading भागीरथी गंगा और भारत। Sanatan Dharm mein Shri Ganga ka mahatva.

33 करोड़ देवी देवता और उनका पूजन। Vastav mein Ishwar kaun hai.

हिंदू धर्म और सनातन धर्म दोनों एक ही है। सनातन धर्म में एक ग्रंथ है, रामायण और रामायण में सर्वोपरि पुरुषोत्तम श्रीराम का चरित्र है। हिंदू धर्म में भक्त भगवान को कहां खोजें? महानुभाव! श्री रामायण एक चरित्र विशेष ग्रंथ है, अनेक भाषाएं तथा टीका में मौजूद है। समाज में ग्रंथ के साथ-साथ इसमें मौजूद … Continue reading 33 करोड़ देवी देवता और उनका पूजन। Vastav mein Ishwar kaun hai.