नोक-झोंक भरा व्यंगात्मक आलोचना। Golu Goli majak Masti.

व्यंग आलोचना- ०१ गोलू गोली नोकझोंक भरा सामाजिक व्यंग। पति पत्नी की नोक झोंक। पति-पत्नी का नोक-झोंक भरा व्यंगात्मक आलोचना। ''गोलू-गोली वार्ता'' गोलू गोली का आपसी नोकझोंक भरा व्यंग।गोलू गांव का एक पढ़ा लिखा गवांर व्यक्ति है, और गोली शहर की महत्वकांक्षी महिला है। कहते हैं जोड़ियां ऊपर वाला बनाता है या यूं कह सकते … Continue reading नोक-झोंक भरा व्यंगात्मक आलोचना। Golu Goli majak Masti.

आम आदमी जन सेवा केंद्र। हजारे आंदोलन।Apna kaam Banta bhaad mein jaaye Janta

जनता अपना दर्द किसे सुनाएं- बकवास। हिंदू धर्म। सनातन धर्म। जनता का दर्द कौन समझे!नेताओं के द्वारा मूर्ख वोटर कहा जाने वाला जनता अपना दर्द किसे सुनाएं? नेता अभिनेता राजनेता सब सिर्फ अपने लिए जीते हैं, जनता के लिए कौन जीता है। ह्यूमन राइट्स, समाज कल्याण सेवा, और ना जाने कितनी सेवाएं देश में चल … Continue reading आम आदमी जन सेवा केंद्र। हजारे आंदोलन।Apna kaam Banta bhaad mein jaaye Janta

मौसम विज्ञानिक नेताजी। Janata ka Dard be Mausam Barsaat.

भारत में अक्सर नए नए मुद्दे खड़े किए जाते हैं, एक ज्वलंत मुद्दा है कृषक बिल। जरूरत के अनुसार नेता अपना शब्द सुनाने आ जाते हैं और जनता अपना दर्द कहां सुनाएं।मौसम विज्ञानिक नेताजी। भारत की जनता आखिर अपने आप को कैसे समझाएं? मानने वाले और न मानने वाले वास्तविकता से दोनों परिचित हैं। आजादी … Continue reading मौसम विज्ञानिक नेताजी। Janata ka Dard be Mausam Barsaat.

महात्मा गांधी का दर्द कौन जाने? Aaj ki rajniti aur Mahatma Gandhi.

जनता के लिए श्री महात्मा गांधी का दर्द। हिंदू धर्म में महात्मा गांधी। सनातन धर्म। आज श्री महात्मा गांधी क्या कहते होंगे। आज महात्मा गांधी भारत की राजनीति के लिए क्या कहते होंगे। क्या यह वही भारत है, जिसका मैंने सपना देखा था। मुझे लोग गाली देते हैं इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। मैंने कभी … Continue reading महात्मा गांधी का दर्द कौन जाने? Aaj ki rajniti aur Mahatma Gandhi.

करोना से त्रस्त जनता अपना दर्द किसे सुनाएं?corona ka dard

कोरोना में दिल बेचैन है। करोना समाज से क्या लेकर जाने वाला है। करोना से त्रस्त जनता अपना दर्द किसे सुनाएं? "कोरोना" क्या लेकर जाएगा इसका चिंतन करने से पहले "करोना" क्या लेकर आया है इसके ऊपर चिंतन आवश्यक है। यह एक महामारी है जो जन जन में फैला हुआ है। सबके अंदर कुछ होने … Continue reading करोना से त्रस्त जनता अपना दर्द किसे सुनाएं?corona ka dard